October 29, 2020

THF

THE HINDI FACTS

future group

फ्यूचर ग्रुप (Future Group) एक कर्ज को चुकाने में नाकामयाब रहे

फ्यूचर ग्रुप (Future Group)-किशोर बियानी

आज कल एक नाम जो सबसे ज्यादा चर्चा में है वो है फ्यूचर ग्रुप (Future Group) क्योकि इसकी एक बड़ी हिस्सेदारी रिलायंस ग्रुप ने 24 हजार 713 करोड़ रुपये की एक भारी भरकम राशि के साथ खरीदी है । इसी के साथ एक बात मन मे आती है कि किसने इस फ्यूचर ग्रुप (Future Group) को खड़ा किया है ? कौन है वो शख्स जिंसने इतना बड़ा सम्राज्य खड़ा किया है और आज ऐसा क्या हुआ कि उसे अपनी कम्पनी बेचनी पड़ी ? कैसे इस कम्पनी के मालिक ने इसे खड़ा किया था ?

आपके इन सभी प्रश्नों के जवाब आपको आज के हमारे इस आर्टिकल में मिलेंगे ।

क्या आपने किशोर बियानी ( Kishore Biyani) का नाम सुना है क्या ? हो सकता है कि आपका जवाब हो कि नही लेकिन क्या आपने बिग बाजार का नाम सुना है ? तो लगभग अभी का एक ही जवाब होगा हां ।

जी हां वही बिग बाजार जिंसमे एक ही छत के नीचे आपकी सभी जरूरतों का आवश्यक सामान मिलता है । इसी बिग बाजार को किशोर बियानी ( Kishore Biyani) ने खड़ा किया है ।

 

future group

 

किशोर बियानी का जन्म 1961 में , मुम्बई के एक मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था । जिनका कपड़े का व्यापार था । इन्होंने 22 साल की उम्र में ट्राउजर बनाने का काम पेंटालून नाम से शुरू किया था जो चल निकला । आज पेंटालून का कारोबार लगभग पूरी दुनिया मे फैला हुआ है । किशोर बियानी ( Kishore Biyani) एक ऐसी शख्सियत के तौर पर पहचान रखते है जिन्होंने जीरो से उठकर दुनिया के प्रमुख 80 वे अमीर शख्स बनने तक का सफर तय किया है । इनके काम करने का एक ही तरीका है जो करना है वो पूरे मन और कठोर मेहनत के साथ करना है और लोग क्या चाहते है ये पता करने के लिए किसी भी हद तक गुजरना चाहिए तो भी गुजरना चाहिए । इसलिए इन्होंने हमेशा सादगी को अपनाया रखा । आज इस आर्टिकल में उनके कुछ ऐसे ही प्रमुख गुणों और गलतियों के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे जो एक बिज़नेस करने वाले और बिज़नेस शुरू करने वाले नवयुवकों के लिए बहुत महत्वपूर्ण सिद्ध हो सकते है ।

किशोर बियानी ( Kishore Biyani) ने एच आर कॉलेज ऑफ कॉमर्स मुम्बई से स्नातक किया और उसके बाद मार्केटिंग मैनजमेंट में पीजी डिप्लोमा की डिग्री प्राप्त की है । किशोर का मन शुरू से ही पढ़ाई में नही लगता था तो इन्होंने कुछ अलग करने के बारे में सोच और खोजना शुरू किया कि वे क्या कर सकते है तो इन्हें इनके सबसे बड़े गुण के बारे में पता चला कि ये मार्केटिंग का अच्छे से कर सकते है । फिर क्या था इन्होंने इसी क्षेत्र में आगे बढ़ने का निर्णय किया और ये फैसला उनकी जिंदगी का सबसे अच्छा फैसला था । उसके बाद इन्होंने कभी पीछे मुड़कर नही देखा ।

 

1. लोगो के बीच जाकर ट्रेंड पहचानते है –फ्यूचर ग्रुप (Future Group)

 

किशोर बियानी ( Kishore Biyani) के काम करने का तरीका सभी बिज़नेस में से बिल्कुल जुदा है । ये ग्राहक की पसन्द जानने के लिए कुछ भी कर सकते है । यही कारण है कि आज इतना बड़ा बिज़नेस एम्पायर होने के बाद भी ये अपने फ्रेंचाइजी स्टोर में जाकर ही बैठते है , ताकि खरीदारी करने आये ग्रहको के पैटर्न्स को जान कर अपने काम के तरीकों में बदलाव कर सके ।

उनके काम करने के तरीके का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते है कि अगर कभी किशोर बियानी ( Kishore Biyani) कोई क्रिकेट मैच देखने जाते है तो हमेशा सस्ती से सस्ती टिकट खरीदते है । कभी भी पवेलियन की टिकट नही खरीदते है । इनको भीड़ में जाकर बैठना अच्छा लगता है क्योकि वहां पर वह लोगो की पसन्द जानते है और ये पहचानते है कि किस प्रोडक्ट पर ग्राहक कितना पैसा खर्च कर सकता है। यही कारण है कि आज उनके स्टोर का नाम तो लगभग सभी जानते है लेकिन उनके नाम को बहुत कम लोग जानते है । इन्हें बस काम ही काम नजर आता है । ये काम करते हुए कभी थकते नही है ।

 

2. बदलता ट्रेंड किया नोट –फ्यूचर ग्रुप (Future Group)

 

ये बचपन से ही अपने दादा के साथ बाजार में साड़ियां बेचने जाते थे। इसी से इनको कपड़े के कारोबार में जाने की इच्छा हुई । कपडा कारोबार के ट्रेंड को पहचानना भी जरूरी था। इसलिए ये भीड़ में जाकर ट्रेंड पहचानते थे। भीड़ में जाकर ट्रेंड पहचाने के तरीके ने इन्हें एक नए ट्रेंड के बारे पता चला । इन्होंने नोट किया कि आज का युवा मंदिर जाते समय भी जीन्स की पेंट पहनकर मंदिर जाता है जबकि पहले ऐसा नही था और इसी बात को ध्यान में रखकर इन्होंने ट्राउजर बनाने का काम शुरू किया और ये काम इनका चल निकला । 1987 में इन्होंने एक नई कम्पनी मेंस वियर प्रा० लि० शुरू की । इस कम्पनी में बनने वाले कपड़े पेंटालून के नाम से बेचे जाते थे । 1992 में इन्होंने पेंटालून कम्पनी को स्टॉक मार्केट में लिस्ट करवाया ताकि और पैसा जुटाया जा सके । इसके बाद तो इन्होंने पूरे रिटेल मार्किट का नक्शा ही बदल कर रख दिया ।

 

2. 2001 में खोला पहला बिग बाजार स्टोर –फ्यूचर ग्रुप (Future Group)

 

किशोर बियानी ( Kishore Biyani) को आईडिया ऑफ मेन भी कहा जाता है क्योकि ये नित ये प्रयोग अपने बिज़नेस में करते रहते है। इसी का परिणाम था कि इन्हें अपनी रिसर्च के बाद समझ आया कि इस देश मे एक ऐसा स्टोर होना चाहिए जिससे लोगो को एक ही छत के नीचे उसकी आवश्यकता की सभी वस्तुएं मिल जाये । फिर क्या यह इन्होंने 2001 ।के पहला बिग बाजार के नाम से स्टोर खोला ।

इनको अपने काम को तेजी के साथ फैलाने के लिए भी जाना जाता है क्योकि जहाँ इन्होंने 2001 में पहले स्टोर के साथ बिग बाजार की स्थापना की थी वही 2006 में इन स्टोर्स की संख्या 56 तक पहुंच गई और 2008 तक यह संख्या बढ़कर 116 हो गयी । 2008 की मंदी का कम्पनी पर भी काफी गहरा असर पड़ा था । यही कारण है कि उस समय की मंदी के समय से चल रहा कर्ज इतना ज्यादा हो गया कि आज उन्हें अपना बिग बाजार बेचना पड़ रहा है । मंदी के बावजूद भी कम्पनी आगे बढ़ती रही और नए स्टोर्स खुलते रहे । इसी उम्मीद के साथ कि जल्द ही इस मंदी से उबर जाएंगे । लगातार खुलते स्टोर्स के कारण 2019 तके पूरे देश मे इसके स्टोर की संख्या 295 में हो गयी । अगर फ्यूचर ग्रुप (Future Group) की बात करे तो इनके स्टोर्स की कुल संख्या 1800 से भी अधिक हो चुकी है ।

 

future group

 

3. मैं ही बनाता हूं और मैं ही मिटाता भी हूँ –फ्यूचर ग्रुप (Future Group)

 

ये इनका सबसे प्रसिद्ध वाक्य था क्योकि इन्होंने कभी भी एक काम को लंबे समय तक नही किया । इनके द्वारा स्थापित कम्पनी पेंटालून कि अधिकतर हिस्सेदारी इन्होंने 2012 में आदित्य बिड़ला नुवो को बेच दिए । ये डील उस समय 1600 करोड़ रुपये की एक भारी भरकम राशि के रूप में हुई थी । इसमे इनकी कम्पनी का 800 करोड़ रुपये का कर्ज भी शामिल था । किशोर बियानी ( Kishore Biyani) और कर्ज का तो जैसे परछाई जैसा ही नाता रहा है। 2012 में ही बियानी ने कर्ज चुकाने के लिए फ्यूचर कैपिटल होल्डिंग के मैजोरिटी शेयर अमेरिका की एक कंपनी वारबर्ग पिनकस को बेचकर रुपये जुटाए । उस समय इनकी कम्पनी पर लगभग 5000 करोड़ रुपये का भारी भरकम कर्ज था । बियानी ने लगातार बढ़ते कर्ज से छुटकारा पाने के लिए पिछले साल ही फ्यूचर ग्रुप (Future Group) कूपन्स में 49 फीसदी हिस्सेदारों अमेजन डॉट कॉम को बेच दी थी । फ्यूचर कूपन्स के पास रिलायंस रिटेल के 7.3 फीसदी शेयर है ।

 

4. कर्ज के बोझ से ढहा पूरा साम्राज्य –फ्यूचर ग्रुप (Future Group)

 

किशोर बियानी ( Kishore Biyani) का कर्ज से पुराना नाता रहा है और यही कारण है कि रिटेल किंग कहे जाने वाले किशोर बियानी इस क्षेत्र से बाहर हो चुके है । मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो जहां कम्पनी पर 2012 में 5000 करोड़ का कर्ज था वह 31 मार्च 2019 तक बढ़कर 10951 करोड़ रुपये तक हो गया । यह कर्ज लगातार बढ़ता ही रहा और 30 सितंबर 2019 में यह 12778 करोड़ रुपये तक पहुंच गया । कम्पनी का सबसे बुरा दौर इसी साल आया जब फ्यूचर ग्रुप (Future Group) एक कर्ज को चुकाने में नाकामयाब रहे और उन्हें डिफाल्टर घोषित कर दिया गया । जिससे standard and poor’s और Fitch जैसी रेटिंग एजेंसियों ने फ्यूचर ग्रुप (Future Group) रिटेल की रेटिंग घटा दी जिससे कम्पनी के शेयर एक दम से गिर गए और लगातार गिरते ही रहे ।

 

5. बुरी तरह फेल रहे बियानी के ये प्लान:-फ्यूचर ग्रुप (Future Group)

 

किशोर बियानी कोर रिटेलिंग में अति-महत्वाकांक्षी व्यक्ति हो गए थे। उन्होंने नाइबरहुड फार्मेट स्टोर जैसे Easyday, Nilgiris और Heritage पर सबसे ज्यादा ध्यान दिया था लेकिन ये स्टोर कामयाब नहीं हो पाए। बियानी ने इन वेंचर्स को आगे बढ़ाने के लिए भारी निवेश किया था पर यहां पर हमेशा सफल रहने वाले किशोर बियानी ( Kishore Biyani) नाकामयाब हो गए और लगातर नाकामयाब होते ही रहे। । बियानी ने अपने 2000 करोड रुपए के बिजनेस को 2021 तक 20,000 करोड़ तक पहुंचाने की सोची थी , पर कंपनी को घाटा उठाना पड़ा और वित्तवर्ष 2020 के पहले 9 महीनों में उसका लाभ 11.24% घटकर 619 करोड़ रूपए रह गया

 

6. किशोर बियानी की सबसे बड़ी गलती –फ्यूचर ग्रुप (Future Group)

 

एक समारोह में अपनी सबसे बड़ी गलती के सवाल का जवाब देते समय किशोर ने बताया कि उन्होंने उनके जीवन की सबसे बड़ी गलती एक ही साल में दो फिल्में बनाना और उनका बॉक्स ऑफिस पर नही चलना रहा है ।

किशोर बियानी ( Kishore Biyani) ने 2002 में फ़िल्म ना तुम जानो ना हम , जिंसमे ऋतिक रोशन और सैफ अली खान थे और 2003 में फ़िल्म चुरा लिया है तुमने जिंसमे ईशा देओल और जायेद खान थे , प्रोड्यूस की थी । इन फिल्मों पर किशोर बियानी में लगभग 26 करोड़ रुपये खर्च किये थे और दोनों ही फिल्में बॉक्स आफिस पर फ्लॉप रही थी ।

उन्होंने कहा कि आप चाहे कुछ भी बन जाओ लेकिन अगर ग्रहको को आप पसन्द नही आये तो ग्राहक आपको 1 घण्टे में ही नकार देंगे ।

 

यह भी  पढे