October 29, 2020

THF

THE HINDI FACTS

fipola

कोरोना काल मे भी कैसे की करोड़ो की कमाई-fipola

कोरोना काल मे भी कैसे की करोड़ो की कमाई-fipola

हर किसी का सपना एक सफल उधमी बनने का होता है । उस सपने के साथ हर किसी का सपना एक अच्छी वित्तीय स्तिथि को प्राप्त करना भी होता है और इसी कारण है कोई ये जानने की उत्सुकता रखता है की सफल लोगो मे ऐसा क्या हुनर होता है जो उन्हें पूरी दुनिया से अलग बनाता है । ऐसा क्या होता है उनके पास जो सफलता उनके पीछे दौड़ी चली आती है । कुछ ऐसा ही चेन्नई के सुशील क़ानूगोलू ने किया । जब पूरी दुनिया मे कोरोना के कारण सबका व्यवसाय बंद था तब सुशील ने अपने पुश्तैनी सीफूड निर्यात के काम मे कुछ ऐसा किया कि करोनो के जैसे समय मे भी 4.8 करोड़ रुपयों का कारोबार हर महीने कर रहे है ।

सुशील एक व्यवसायी परिवार से आते है । सुशील शुरू से ही नेतृत्व करने वाले रहे है । कॉलेज के दिनों में भी नेतृत्व कौशल का परिचय दिया है । वे कॉलेज में होने वाली महत्वपूर्ण घटनाओ के प्रमुख होते थे। सुशील ने बीकॉम करने के बाद आपूर्ति श्रृंखला विपणन में मास्टर्स की डिग्री पूरी की और एक खाद्य सेवा कम्पनी में एक साल तक नौकरी की । इसके बाद उन्होंने अपने परिवारी व्यवसाय में निश्चय किया । सुशील पश्चिमी दुनिया से काफी प्रभावित है । उन्हीने अमेरिका ब्रिटेन जैसे देशों के बाजारों के अध्ययन किया और मांस कारोबर में क्रांति लाने के बारे मे सोचा ।

उनका मानना था कि दुनिया मे हर एक वस्तु का मार्किट ऑनलाइन हो गया । आप घर बैठे कुछ भी मंगवा सकते हो जैसे सब्जी , दैनिक उपयोग का कोई भी सामान , इलेक्ट्रिक सामना मंगवा सकते है लेकिन आप मांस नही मंगावा सकते क्योंकि इसका कोई ऑनलाइन प्लेटफॉर्म नही है । इसी के साथ उन्होंने फिपोला (fipola) ब्रांड के तहत ताजे और स्वछ माँस की बिक्री शुरू की । इनके द्वारा उपलब्ध करवाये जाने वाला माँस एक दम ताजा और स्वच्छ होता था तो चेन्नई में इनके मांस की बिक्री बढ़ने लगी । लोगो के बीच बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए इन्होंने अलग अलग जगहों पर 13 स्टोर्स खोले ।

Fipola

इनका स्वछ और ताजा माँस उपलब्ध करवाने का मॉडल ऐसे समय मे आया था जब लोग स्वच्छता के प्रति ज्यादा सजग थे और इसी का परिणाम था कि 250 कर्मचारियों के साथ फिपोला (fipola) 4.8 करोड़ का महीने का व्यापार कर रही है । अब सुशील का लक्ष्य पूरे भारत मे ताजा और स्वच्छ माँस उपलब्ध करवाना है और उन्होंने नवंबर तक हर महीने 7 करोड़ रुपये के राजस्व को प्राप्त करने का लक्ष्य भी रखा है । वर्तमान में फिपोला (fipola) बकरी , मुर्गी , भेड़ , और मछली का माँस वितरित करता है ।

सुशील का मानना है कि बिजनेश में सफल होने का एक मात्र मंत्र है ग्राहक की संतुष्टि । अब ये आप पर निर्भर करता है की आप किस प्रकार ग्रहक को सन्तुष्ट करते है और अपने साथ एक लंबे समय तक जोड़े रखते है ।।

इसी के साथ सुशील उन युवाओं के लिए भी एक सन्देश देना चाहते है जो बिज़नेस करना चाहते है । उनके अनुसार हर नए काम को शुरू करने वाले व्यक्ति में धैर्य , दृढता की कला होनी चाहिए । क्योकि एक या दो महीने में कोई कारोबार खड़ा नही होता है कारोबार को खड़ा करने के लिए खुद को तपना पड़ता है। कई बार असफल भी होना पड़ता है लेकिन हर बार अपने आप को मजबूत करते हुए हर एक सफलता से सीख लेनी चाहिए और अपनी गलतियों को सुधारते हुए कदम आगे बढ़ाना चहिए फिर देखिये सफलता कैसे आपके कदम चूमती है ।

सुशील फिपोला (fipola) की सफलता से एक बात तो स्पष्ट है कि हमे कुछ नया करने के लिए हमेशा जोखिम उठाना ही चाहिए ।

 

यह भी  पढे