October 26, 2020

THF

THE HINDI FACTS

Blooging vs. vloggimg

Blogging और Vlogging

Blogging और Vlogging में बहुत सीधा अंतर है आपको blogging में टेक्स्ट का इस्तेमाल करना पड़ता है और vlogging में आपको वीडियो का प्रयोग करना पड़ता है।आज कल हर व्यक्ति जो इंटरनेट से पैसा कमाना चाहता है वेब इन दोनों मेथड का प्रयोग करता है।और इन दोनों के प्रयोग बहुत सारे लोग अच्छा पैसा कमा रहे है।अगर आप भी इस फील्ड में अपना कैरियर बनाना चाहते हो तो आपको लोगो से हटकर कुछ अलग niche चुनना पड़ता है।

तो चलिए बात करते है Blogging और Vlogging में क्या अंतर होता है?

ये भी पढे। 

1. Blogging-

 

Blogging एक प्रकार का Passion है जो बनना चहता वो बन सकता है। blogging मतलब Websiter अब तो आप समझ गये होंगे कि ब्लॉग्गिंग क्या है।

लेकिन मैं फिर भी बता दू कि जो इन्सान किसी भी चिज को दुसरे तक ऑनलाइन और Written के मध्यम से पहुचाये, वो Blogger कहलाता है। और जो काम कर रहा है उसे Blogging कहते है। और आज इंडिया मे ब्लॉगगर बनने का औसर है। और आप ये सोच रहे होन्गे कि पैसा कैसे कमाए।जब आप Blogging कि दुनिया मे घुसन्गे तो आप को अपने आप ही समझ आ जायेगा।जब आप ब्लोग्गिन्ग करेंगे तो आप को पैसा कमाने के भी औसर होगा।

आप अपने ब्लॉग्गिंग को Monetize कर सकते हो । ब्लॉग्गिंग को Monetize करने के बहुत् सारे रास्ते है|

ब्लॉगिंग के जरिये आप अपने नॉलेज को शेयर कर सकते है।आपने देखा होगा कि सारे बड़े कंपनी के ब्लॉग उपलब्ध है।एक नया ब्लॉग बनाने के लिए आपको अधिक स्किल की जरूरत नही होती है।आप इस योग में blogger, wordoress, tumbler के जरिये आसान ब्लॉग बना सकते है।आपको ब्लॉग बनाने के लिए काफी चीजो की जरूरत नही होती है।

आपको बस एक लैपटॉप और कंप्यूटर के साथ ही इंटरनेट की आवश्यकता होती है।ब्लॉग के लिए सबसे ज्यादा जरूरी होता है आप आप के पोस्ट को कितना अच्छा लिखते है।

ब्लॉगिंग में आने वाली परेशानी- अगर आप के ब्लॉग में बहुत से विजिटर नही आते है।तो आपको अपनी वेबसाइट के लिए seo की जरूरत पड़ती है।इसकी मदद से आपको वेबसाइट गूगल पर टॉप पर आ जाता है।

जब आपके पास पाठ्य सामग्री से अधिक वीडियो सामग्री वाली वेबसाइट होती है तो इसे एक vlog कहा जा सकता है। आम तौर पर vlog का स्वामित्व एक लेखक के पास भी होता है।

उदाहरण के लिए, पॉडकास्ट वेबसाइट।

ब्लॉगर्स की तरह, एक व्लॉग रखने वाले व्यक्ति को व्लॉगर्स कहा जाता है।अब जब हमने ब्लॉग और vlog दोनों का अर्थ देख लिया है। आइए हम ब्लॉगिंग और व्लॉगिंग दोनों के फायदे और नुकसान देखें।

pros of vlog-

seo कम करने में मदद करती है।
subscriber और ग्राहकों को प्राप्त करना आसान है। खोज-इंजन में रैंक करना आसान है।

cons of vlog-

एक vlog वीडियो बनाने में लंबा समय व्यतीत होता है।daily आधार पर लगातार नई सामग्री उत्पन्न करना कठिन है।उच्च गुणवत्ता वाले माइक्रोफोन, वीडियो एडिटर, ऑडियो एन्हांसर्स… आदि जैसे संसाधनों की आवश्यकता होती है। एक उच्च लागत वाली वेब होस्टिंग योजना की आवश्यकता है।

 

2. Youtube के फायदे-

 

vlogging से भी आप नॉलेज को आसनी से दूसरों तक पहुँचा सकते हों।इसमे आपको आर्टिकल नही लिखना पड़ता इसमे आपको वीडियो बनाना पड़ता है।आप अपने गूगल एकाउंट की मदद से यूट्यूब में एकाउंट बना लेते है।आप को हमेशा एक क्वालिटी वीडियो बनाना चाहिए।इसकी मदद से आप अपने वीडियो पर व्यूज और सब्सक्राइब बढ़ा सकते है।

Vlogging में आने वाली दिक्कत-

Vlogging के लिए तो  बहुत से संसाधनों की जरूरत पड़ती है।आपको इसके लिए एक कैमरा और एक अच्छा वीडियो एडिटिंग सॉफ्टवेयर और वीडियो एडिटिंग का नॉलेज होना बहुत जरूरी है।

इन उपकरणों के लिए आपको बहुत सारा पैसा खर्च करना पड़ता है।अगर आप के पैसे का अभाव है तो आप एक अच्छा ब्लॉग नही बना सकते हो।vlogging में दूसरी सबसे बड़ी परेशानी है एडिटिंग का,तोको एडिटिंग के लिए एक अच्छे सॉफ्टवेर की जरूरत पड़ती है।

क्योंकि अगर आप blogging करते हो तो उसमें पोस्ट पब्लिश करने के बाद आप अपनी पोस्ट में बदलाव कर सकते है।लेकिन वीडियो में ऐसा नही है।अगर आपकी वीडियो में कोई कमी है तो आप उसे दुबारा नही बदल सकते है।एक वीडियो बनाने के लिए आपको काफी समय देना पड़ता है।वंही ब्लॉग पर आप जल्द से अपनी पोस्ट अपलोड कर सकते हों।

लेकिन अगर आप ब्लॉगिंग और vlogging पर काम एक साथ काम कर सकते हो तो यह बहुत अच्छा होगा।आप vlogging के लिए किसी भी सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर का प्रयोग कर सकते हो।